Solar PanelSolar System

36 cells 60 cells 72 cells 144 cells के सोलर पैनल में क्या अंतर है

36 cells 60 cells 72 cells 144 cells के सोलर पैनल में क्या अंतर है

मार्केट में आपको छोटे-बड़े कई अलग-अलग प्रकार के सोलर पैनल देखने को मिलते हैं. लेकिन उनमें से कौन सा सोलर पैनल आपके लिए फायदेमंद रहेगा यह आपको नहीं पता. क्योंकि सभी सोलर पैनल अलग-अलग watt और volt के आधार पर बनाए जाते हैं ताकि उसे सही प्रकार उपयोग किया जा सके. जब आप सोलर पैनल खरीदने जाते हैं तो आपको भी शायद यह पूछा जाता होगा की 36 cells , 60 cells, 72 cells और 144 cells में से कौन सा सोलर पैनल आपको चाहिए यह आपको पूछा जाता होगा कि 12v या 24v का सोलर पैनल चाहिए.

लेकिन सोलर पैनल खरीदने से पहले आपको यह पता होना चाहिए कि आप उस सोलर पैनल को जिस सोलर चार्ज कंट्रोलर या सोलर इनवर्टर पर लगाना चाहते हैं वह उस सोलर पैनल को सपोर्ट करेगा या नहीं. अगर आपका सोलर पैनल आपके सोलर चार्ज कंट्रोलर या सोलर इनवर्टर को सपोर्ट नहीं करता तो आप उस सोलर पैनल का उपयोग नहीं कर सकते हैं इसीलिए सोलर पैनल को बहुत ध्यान से खरीदना चाहिए. इससे पहले हमने एक पोस्ट में आपको सोलर पैनल के प्रकार के बारे में बताया था वह पोस्ट पढ़कर आपको पता लग जाएगा कि सोलर पैनल कितने प्रकार के होते हैं उसके बाद में आपको सोलर पैनल में लगे cells को देखने की जरूरत पड़ेगी.

36 cells वाले सोलर पैनल

36 cells वाले सोलर पैनल को 12v का सोलर पैनल भी कहा जाता है.इस सोलर पैनल की VOC लगभग 22v होती है. इसका उपयोग ज्यादातर एक बैटरी वाले इनवर्टर पर किया जाता है या जो एक बैटरी वाले सोलर सिस्टम आते हैं जैसे कि सोलर पंखे सोलर लाइट इत्यादि उन पर भी हम 36 cells वाले सोलर पैनल का उपयोग कर सकते हैं क्योंकि यह सोलर पैनल काफी छोटे होते हैं .

36-cell-min

मार्केट में आपको 50w से लेकर 150w तक के सोलर पैनल 36 cells में ही देखने को मिलते हैं. इसीलिए अगर आपके पास में ऐसा कोई सिस्टम है जो कि 12 वोल्ट से चलता है चाहे आपके पास में सोलर इनवर्टर हो या सोलर चार्ज कंट्रोलर हो जो कि 12 वोल्ट पर काम करता है उसी के साथ में आप 36 cells वाले सोलर पैनल का इस्तेमाल कर सकते हैं.

60 cells वाले सोलर पैनल

60 cells वाले सोलर पैनल को हम 24v का सोलर पैनल भी कहते हैं .इस सोलर पैनल की VOC लगभग 33 v होती है और इस सोलर पैनल का उपयोग आप जो बैटरी वाले सिस्टम पर कर सकते हैं. लेकिन अगर आप इस पैनल का उपयोग एक बैटरी वाले सिस्टम पर करना चाहते हैं तो आपके पास में MPPT सोलर चार्ज कंट्रोलर या सोलर इनवर्टर होना चाहिए क्योंकि एक बैटरी वाले सिस्टम को 24v के पैनल से चार्ज करने के लिए आपको MPPT कंट्रोलर या इनवर्टर की आवश्यकता होगी.

60s-min

अगर आप इसे PWM टेक्नोलॉजी वाले सोलर चार्ज कंट्रोलर या सोलर इनवर्टर पर उपयोग करना चाहते हैं तो आपके पास में कम से कम 2 बैटरी वाला सिस्टम होना चाहिए तभी यह सोलर पैनल उसके ऊपर काम करेगा. यह पैनल आपको लगभग 200 w के करीब देखने को मिलता है.

72 cells वाले सोलर पैनल

72 cells वाले सोलर पैनल को भी 24v काही सोलर पैनल कहा जाता है. लेकिन इस सोलर पैनल की VOC लगभग 45v होती है इसीलिए इस सोलर पैनल को भी आप MPPT सोलर चार्ज कंट्रोलर या सोलर इनवर्टर पर इस्तेमाल कर सकते हैं .अगर आप इसे PWM टेक्नोलॉजी वाले सोलर चार्ज कंट्रोलर या सोलर इनवर्टर पर उपयोग करना चाहते हैं तो आपके पास में कम से कम 2 बैटरी वाला सिस्टम होना चाहिए तभी यह सोलर पैनल उसके ऊपर काम करेगा.

72-min

और यह पैनल आपको 390w में देखने को मिलते हैं. लेकिन अगर आपको सोलर पैनल के अलग-अलग प्रकार के बारे में पता होगा तो आपको पता होगा कि पॉलीक्रिस्टलाइन सोलर पैनल में आपको 72 सेल वाले सोलर पैनल लगभग 330w के करीब देखने को मिलते हैं और मोनोक्रिस्टलाइन में आपको लगभग 385 w वोट के करीब देखने को मिलते हैं. और bifacial सोलर पैनल में आपको लगभग 390w के करीब आपको देखने को मिलते हैं लेकिन bifacial सोलर पैनल में वह बिजली दोनों तरफ से बनाता है इसीलिए उसकी पावर जनरेशन 390w से अधिक होती है.

144 cells वाले सोलर पैनल

मार्केट में आपको वैसे तो सिर्फ 72 cells के ही सोलर पैनल ज्यादा देखने को मिलते हैं लेकिन जो Half cut सोलर पैनल आते हैं उन्हें 144 cells वाला सोलर पैनल कहा जाता है क्योंकि उसके अंदर 72 cell को ही बीच में से काट कर दो हिस्सों में बांट दिया जाता है जिससे कि वह 144 cells वाला सोलर पैनल बन जाता है. इस प्रकार के सोलर पैनल का उपयोग वहां पर किया जाता है जहां पर ज्यादातर आधे पैनल पर छाया आ जाती है तो वहां पर यह सोलर पैनल काफी अच्छा काम करता है.

panel half cut

काफी घरों की छतों के पास पेड़ पौधे होते हैं या उन्हीं की छत के ऊपर बने हुए किसी कमरे या पानी की टंकी की छाया भी उनके सोलर पैनल पर आ जाती है जिससे कि जो साधारण सोलर पैनल होते हैं उसकी पावर जनरेशन कम हो जाती है लेकिन half cut के सोलर पैनल में ऐसा नहीं होता है यह फिर भी अगर इसके आधे हिस्से पर छाया आ जाती है तो भी यह आधा पैनल अच्छे से काम करता रहता है. इसीलिए इस प्रकार के सोलर पैनल का इस्तेमाल ऐसी ही जगह पर करना उचित रहता है जहां पर सोलर पैनल पर कभी-कभी छाया आ जाती हो.

इस पोस्ट में आपको 36 cell solar panel wattage 36 cell solar panel specifications 60 cell solar panel voltage 60 cell solar panel wattage 72 cell solar panel wattage 144 cell solar panel 60 cell solar panel specifications 72 cell solar panel price से संबंधित पूरी जानकारी दी गई है.अगर इसके बारे में आपका अभी भी कोई सवाल या कोई सुझाव हो तो नीचे कमेंट करके जरूर पूछें और इसके अलावा अगर आप कुछ भी सीधे हम से पूछना चाहते हैं तो हमारे फेसबुक पेज पर हमें मैसेज करके पूछ सकते हैं और हमें इंस्टाग्राम ट्विटर से जुड़ सकते हैं और हमारे युटुब चैनल को सब्सक्राइब कर सकते हैं

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
अब बिना बैटरी के चलेगा Solar, 25 साल तक मुफ्त मिलेगी बिजली क्या है PM Surya Ghar स्कीम? 1 करोड़ घरों को मिलेगी फ्री बिजली सोलर पैनल बनाने वाली कंपनी के Share Price प्रधानमंत्री सूर्योदय योजना क्या है? जानें किसे मिलेगा इसका लाभ 6 किलोवाट सोलर पैनल से क्या-क्या चला सकते हैं