Solar System

How to Connect Solar Panel to Battery and Inverter

How to Connect Solar Panel to Battery and Inverter

अगर आप अपने घर में सोलर पैनल खुद से लगाना चाहते हैं तो आपको सोलर पैनल के कनेक्शन करना आना चाहिए तभी आप अपने घर में खुद सोलर सिस्टम लगा सकते हैं. क्योंकि सोलर पैनल से आने वाली Wire का कनेक्शन बिल्कुल सही होना चाहिए ताकि है सही तरीके से काम करते हैं. अगर कोई भी कनेक्शन गलत हो जाता है तो आप का इनवर्टर या सोलर चार्ज कंट्रोलर खराब हो सकता है.

तो आज की इस पोस्ट में हम आपको बताने वाले हैं कि आप सोलर पैनल कनेक्शन के कनेक्शन बैटरी या सोलर इनवर्टर के साथ कर सकते हैं. सोलर पैनल को बैटरी के साथ जोड़ने के लिए हमारे पास 2 तरीके होते हैं. आप सोलर चार्ज कंट्रोलर का इस्तेमाल करके भी सोलर पैनल को बैटरी के साथ जोड़ सकते हैं या आप सोलर इनवर्टर की मदद से भी सोलर पैनल को बैटरी और इनवर्टर के साथ में जोड़ सकते हैं.

सोलर चार्ज कंट्रोलर के कनेक्शन

तो सबसे पहले हम यहां पर बात करेंगे कि अगर आप एक सोलर चार्ज कंट्रोलर का इस्तेमाल करके सोलर पैनल के कनेक्शन करना चाहते हैं तो आपको कैसे कनेक्शन करने होंगे. जैसा कि आपको पता है मार्केट में 2 तरह के सोलर चार्ज कंट्रोलर मिलते हैं जो कि इनके प्रकार पर निर्भर करता है.
1. MPPT
2. PWM
आप किसी भी प्रकार के सोलर चार्ज कंट्रोलर का उपयोग कर सकते हैं सभी के कनेक्शन एक जैसे ही होते हैं. नीचे आपको एक डायग्राम दिखाया गया है जिसे आपको ज्यादा आसानी से समझ आएगा कि कैसे इसके कनेक्शन करने हैं.

 

तो सोलर चार्ज कंट्रोलर का उपयोग हम साधारण इनवर्टर पर सोलर पैनल लगाने के लिए करते हैं. क्योंकि हर किसी के पास इतने पैसे नहीं होते कि वह अपने साधारण इनवर्टर बैटरी को बेचकर और फिर नया सोलर इनवर्टर और सोलर बैटरी खरीद सके इसीलिए आप सोलर चार्ज कंट्रोलर की मदद से बैटरी पर सोलर पैनल लगा सकते हैं जिस तक कनेक्शन डायग्राम ऊपर दिया गया है.

तो जैसा कि आप दया ग्राम में देख सकते हैं हम बैटरी की वायर को पहले सीधा इनवर्टर पर लगाते हैं और फिर बैटरी से ही दो वायर को जोड़कर सोलर चार्ज कंट्रोलर में लगाते हैं. लेकिन यहां पर एक बात का विशेष ध्यान रखना होगा कि बैटरी की Positive वायर को सोलर चार्ज कंट्रोलर के Positive टर्मिनल पर लगाना होगा और Negative वायर को सोलर चार्ज कंट्रोलर के Negative टर्मिनल पर लगाना होगा.तभी आपका सोलर चार्ज कंट्रोलर सही से काम करेगा नहीं तो यह खराब हो सकता है.

इसी प्रकार सोलर पैनल से आने वाली Wire को भी आपको सोलर चार्ज कंट्रोलर पर लगाना है और सोलर पैनल की Positive वायर को सोलर चार्ज कंट्रोलर के Positive टर्मिनल पर लगाना होगा और Negative वायर को सोलर चार्ज कंट्रोलर के Negative टर्मिनल पर लगाना होगा.तभी आपका सोलर चार्ज कंट्रोलर सही से काम करेगा नहीं तो यह खराब हो सकता है.

अगर इनमें से कोई भी कनेक्शन आप गलत कर देंगे तो आपका सोलर चार्ज कंट्रोलर खराब हो सकता है तो कनेक्शन करने से पहले सभी टर्मिनल को अच्छे से जांच कर ही तारों का कनेक्शन करें. तो इस प्रकार आप बड़ी ही आसानी से सोलर पैनल को बैटरी और इनवर्टर के साथ में जोड़ सकते हैं.

इसके अलावा आपको यह देखना होगा कि आपका जो सोलर चार्ज कंट्रोलर है वह आपके सोलर पैनल को सपोर्ट करता है या नहीं. सोलर पैनल में आपको Voc देखने को मिलती है जैसे कि 72 Cells के सोलर पैनल की भी उसी लगभग 45v से लेकर 50 v तक होती है तो आप जो भी सोलर चार्ज कंट्रोलर खरीदेंगे उसकी voc सपोर्ट करने की रेंज कम से कम 50v होनी चाहिए तभी आप सोलर पैनल को सोलर चार्ज कंट्रोलर की मदद से बैटरी पर लगा पाएंगे.

सोलर इनवर्टर के साथ में सोलर पैनल के कनेक्शन

सोलर इनवर्टर के साथ में सोलर पैनल के कनेक्शन करना बहुत ही आसान होता है इसके लिए सोलर इनवर्टर के पीछे आपको सोलर पैनल लगाने के लिए दो टर्मिनल दिए जाते हैं जिस पर आपको सोलर पैनल से आने वाली वायर को कनेक्ट करना होता है और जहां पर भी आपको विशेष ध्यान रखना होगा कि सोलर पैनल की Positive वायर को सोलर इनवर्टर के Positive टर्मिनल पर लगाना होगा और Negative वायर को सोलर इनवर्टर के Negative टर्मिनल पर लगाना होगा.तभी आपका सोलर इनवर्टर सही से काम करेगा नहीं तो यह खराब हो सकता है. इसका डायग्राम के नीचे दिया गया है.

 

जैसा कि आप ऊपर डायग्राम में देख सकते हैं सोलर इनवर्टर के पीछे जो आपको दो टर्मिनल दिए जाते हैं वहां पर आपको सोलर पैनल से आने वाली वायर को सीधा जोड़ देना है इसके अलावा आपको बैटरी के कनेक्शन के साथ में कुछ नहीं करना वह सिर्फ इनवर्टर के साथ में ही आप को जोड़ने हैं. तो ऐसे आप बड़े ही आसानी से सोलर पैनल को इनवर्टर और बैटरी के साथ में जोड़ सकते हैं. लेकिन यहां पर भी आपको इस बात का विशेष ध्यान रखना होगा कि आप जो इनवर्टर ले रहे हैं वह आपके सोलर पैनल को सपोर्ट करना चाहिए या जो आपने पहले सोलर इनवर्टर ले लिया है उसके लिए जो भी सोलर पैनल आप लेना चाहते हैं उनकी VOC सोलर पैनल की VOC से कम होनी चाहिए. तभी आपके सोलर पैनल आपके इनवर्टर पर काम करेंगे.

कौन से इनवर्टर के लिए कौन सा सोलर पैनल सही रहेगा

यह काफी लोगों को नहीं पता होता कि जो इनवर्टर हमने लिया है उसके लिए कौन सा सोलर पैनल सही रहेगा. इसीलिए काफी बार लोग गलती कर देते हैं और गलत सोलर पैनल का चुनाव कर लेते हैं जिसके कारण उनका सोलर पैनल इनवर्टर पर काम नहीं करता और उनके पैसे बर्बाद हो जाते हैं.

अब के इनवर्टर के लिए कौन सा सोलर पैनल सही रहेगा यह पता करने का बहुत ही आसान सा तरीका होता है जिसके लिए आपको सबसे पहले अपने सोलर पैनल की VOC का पता होना चाहिए कि कितनी VOC यह सोलर इनवर्टर सपोर्ट करता है.

उदाहरण के लिए अगर आप PWM टेक्नोलॉजी का सोलर इनवर्टर लेते हैं तो उसमें अगर आप का इनवर्टर एक बैटरी वाला है तो उसकी VOC लगभग 25v होगी जिसके ऊपर आप 36 Cells वाले सोलर पैनल का उपयोग कर सकते हैं.

अगर आपका इनवर्टर MPPT टेक्नोलॉजी का है और 1 बैटरी वाला है तो इसकी भी उसी लगभग 45v होगी जिस पर आप 72 Cells तक के सोलर पैनल को Series जोड़कर सोलर इनवर्टर पर लगा सकते हैं.

अगर आपका इन्वर्टर PWM टेक्नोलॉजी का है और दो बैटरी वाला है तो इसकी VOC लगभग 45v से लेकर 50v होगी. जिस पर आप 72 Cells तक के सोलर पैनल का उपयोग कर सकते हैं और अगर आपका इनवर्टर MPPT टेक्नोलॉजी का है और दो बैटरी वाला है तो इसकी भी उसी लगभग 90v होगी जिस पर आप 72 Cells तक के सोलर पैनल को Series जोड़कर सोलर इनवर्टर पर लगा सकते हैं.

तो इस उदाहरण से आप समझ गए होंगे कि आपका इनवर्टर कौन सी टेक्नोलॉजी का है और कितने Cells वाले सोलर पैनल आप उस पर लगा सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
अब बिना बैटरी के चलेगा Solar, 25 साल तक मुफ्त मिलेगी बिजली क्या है PM Surya Ghar स्कीम? 1 करोड़ घरों को मिलेगी फ्री बिजली सोलर पैनल बनाने वाली कंपनी के Share Price प्रधानमंत्री सूर्योदय योजना क्या है? जानें किसे मिलेगा इसका लाभ 6 किलोवाट सोलर पैनल से क्या-क्या चला सकते हैं