Solar Charge Controller

PWM Vs MPPT क्या होता है PWM Vs MPPT Technology In Hindi

PWM Vs MPPT क्या होता है PWM Vs MPPT Technology In Hindi

मार्किट में हमें हर रोज अलग अलग कंपनियों के इनवर्टर सोलर चार्ज कंट्रोलर देखने को मिलते हैं और उनके अंदर जो टेक्नोलॉजी होती है वो एक जैसी ही होती है. आपको PWM टेक्नोलॉजी के कंट्रोलर मिलेगें या MPPT टेक्नोलॉजी के,

लेकिन हर किसी को इतना नहीं पता होता कि PWM और MPPT में क्या अंतर होता है और इन दोनों में से कौन सी ज्यादा बढ़िया होती है। हालांकि। दोनों ही टेक्नोलॉजी अपनी जगह पर सही है, लेकिन फिर भी अगर हम एक फ्यूचर प्रूफ टेक्नोलॉजी के साथ में जाना चाहते हैं तो हमें कौन सी टेक्नोलॉजी का सोलर चार्ज कंट्रोलर या इनवर्टर लेना चाहिए। इसी बारे में आप इस विडियो में हम बात करने वाले हैं.

What is PWM in Hindi

तो सबसे पहले बात करते हैं PWM टेक्नोलॉजी के बारे में तो PWM का पूरा नाम होता है Pulse Width Modulation। इसके अंदर इलेक्ट्रिकल स्विच का उपयोग करके स्विच को बहुत ही जल्दी ON/OFF किया जाता है जिससे हमें जरूरत के अनुसार वोल्टेज मिल सके।

जैसे कि अगर आपको 12 वोल्ट की बैटरी को चार्ज करने के लिए 14 वोल्ट की आवश्यकता होती है तो अगर आप 22 वोल्ट की VOC वाला पैनल लगा देते हैं तो PWM टेक्नोलोजी का सोलर चार्ज कंट्रोलर स्विचिंग की मदद से 22 वोल्ट को 14 वोल्ट पर ले आएगा. जिससे कि आपकी बैटरी Safely charge  हो जाती है तो यहां पर कहने का मतलब यह है कि पीडब्ल्यू टेक्नोलोजी के अंदर सिर्फ वोल्टेज को ही कंट्रोल किया जाता है।

What is MPPT in Hindi

दूसरी तरफ MPPT का पूरा नाम होता है Maximum Power Point Tracking। यह PWM टेक्नोलॉजी से बिल्कुल अलग होता है क्योंकि सोलर पैनल से आने वाली सप्लाई Fix नहीं होती है तो वहां पर MPPT टाइप का सोलर चार्ज कंट्रोलर उस सप्लाई को बैटरी को चार्ज करने के लिए रेगुलेट करता है और मैक्सिमम एफिशियंसी के साथ में बैटरी को चार्ज कर देता है और PWM टेक्नोलोजी वाले सोलर चार्ज कंट्रोलर के मुकाबले MPPT सोलर चार्ज कंट्रोलर की एफिशियंसी 30 प्रतिशत तक अधिक होती है।

तो यहां पर जो पावर सेविंग की बात करें तो MPPT टेक्नोलॉजी के अंदर आपकी मैक्सिमम पॉवर सेविंग हो जाती है और आपकी बैटरियां काफी जल्दी और Safely चार्ज हो जाती है। इसीलिए आपको मार्केट के अंदर PWM टेक्नोलॉजी वाले सोलर चार्ज कंट्रोलर या इनवर्टर सस्ते देखने को मिलते हैं और MPPT टेक्नोलॉजी वाले सोलर चार्ज कंट्रोलर या इन्वर्टर महंगी देखने को मिलते हैं।.

उदाहरण के लिए यहां पर हम ले सकते हैं, luminous कंपनी का NXG 1800 यह PWM टेक्नोलोजी का सोलर इनवर्टर है जिसकी लोड कैपेसिटी 1500 VA है और पैनल कैपेसिटी 1 किलो वॉट है और इस पर हमें 2 बैटरियां लगानी पड़ती है और Voc की बात करें तो 50 वोल्ट की Voc आपको इसके अंदर देखने को मिलेगी तो यहां पर PWM टेक्नोलॉजी का होने के कारण इसकी Voc काफी लिमिटिड है. और पैनल की कैपेसिटी एक किलो वॉट है.

तो यंहा पर एक किलो वॉट के अराउंड लोड भी चला सकते हैं. एक किलोवॉट के अराउंड आप पैनल भी लगा सकते हैं और यह आपको मार्केट में मिल जाता है. लगभग 9 से 10 हजार रुपए में,

दूसरी तरफ बात करें इन्हीं के। MPPT मॉडल की जो कि NXT 1 Kw है। जिसकी लोड कैपेसिटी तो 1 किलो वॉट है लेकिन पैनल कपैसिटी उसकी 1100 w है तो यहां पर आप देखेंगे कि लोड कैपेसिटी से ज्यादा पैनल कपैसिटी है और VOC रेंज की बात करें तो 165 वोल्ट की VOC को सपोर्ट करता है तो आप देख सकते हैं। दोनों की VOC में बहुत ज्यादा बड़ा अंतर है. क्योंकि PWM टेक्नोलॉजी के अंदर हमें सोलर पैनल की VOC को बैटरी की वोल्टेज के अनुसार मैच करवाना होता है. तभी हमारी बैटरी ज्यादा Safely चार्ज हो सकती है और अच्छे से चार्ज हो सकती है.

लेकिन MPPT टेक्नोलॉजी के अंदर अगर आप हाई VOC रेंज का भी पैनल लगा देते हैं तो भी सोलर चार्ज कंट्रोलर आपकी बैटरी को सही वोल्टेज और करंट से चार्ज करेगा. जिससे कि आपकी बैटरी बिल्कुल सेफली और फुली चार्ज हो सके.

तो यह दोनों के अंदर बहुत बड़ा डिफरेंस है। और यहां पर MPPT टेक्नोलोजी का उपयोग करने पर आपको तब भी ज्यादा फायदा होगा जब धूप कम होती है . धूप कम होने पर सोलर पैनल का करंट कम हो जाता है. ऐसी स्थिति में PWM टेक्नोलोजी के सोलर चार्ज कंट्रोलर या इन्वर्टर, सोलर पैनल से आने वाले करंट को नहीं बढ़ा पाते हैं और बहुत कम मात्रा में सोलर पैनल से पावर ले पाते हैं।.

दूसरी तरफ एमपीटी जो सोलर चार्ज कंट्रोलर होते हैं वह सोलर पैनल से आने वाले हाई वोल्टेज को करंट में कन्वर्ट कर देते हैं. जिससे कि हमें थोड़ा सा एक्स्ट्रा बूस्ट देखने को मिलता है। इसीलिए PWM के मुकाबले MPPT 30% ज्यादा एफिशिएंट होते हैं।.

तो यहां पर दोनों टेक्नोलॉजी को यूजर के अनुसार बनाया गया है. अगर आपका बजट कम है तो आप PWM टेक्नोलॉजी के साथ जा सकते हैं और अगर आपका बजट अच्छा है और आपको फ्यूचर प्रूफ एडवांस टेक्नोलॉजी का सोलर कंट्रोलर या PCU चाहिए तो आप MPPT टेक्नोलॉजी के साथ जा सकते हैं।

best solar charge controller in india,best charge controller for lithium ion battery,home solar charge controller. best pwm solar charge controller,mppt solar charge controller price,top solar charge controller manual,100 amp solar charge controller,mppt solar charge controller,mppt charge controller,solar charge controller,pwm vs mppt,mppt vs pwm,mppt,pwm,maximum power point tracking,solar panels,solar panel,charge controller,off grid,solar energy,solar power

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
अब बिना बैटरी के चलेगा Solar, 25 साल तक मुफ्त मिलेगी बिजली क्या है PM Surya Ghar स्कीम? 1 करोड़ घरों को मिलेगी फ्री बिजली सोलर पैनल बनाने वाली कंपनी के Share Price प्रधानमंत्री सूर्योदय योजना क्या है? जानें किसे मिलेगा इसका लाभ 6 किलोवाट सोलर पैनल से क्या-क्या चला सकते हैं