Solar System

सोलर वॉटर हीटर क्या है और कैसे काम करता है

solar water heater working,solar heater,diy solar heater,etc solar water heater,heater,best solar water heater,cheap solar water heater,solar hot water heater,build a solar water heater,v guard solar water heater price

आप सभी को पता होगा कि अब सर्दियों का सीजन चल रहा है. और सर्दियों में गर्म पानी की बहुत ही ज्यादा जरूरत होती है. क्योंकि घर में हमें बर्तन धोने के लिए, नहाने के लिए, कपड़े धोने के लिए और पीने के लिए भी गर्म पानी की ही जरूरत होती है. तो ऐसे में हम मिनट – मिनट में ना तो अपना गैस गीजर यूज कर सकते हैं.

क्योंकि यदि हम इन सभी चीजों के लिए गर्म पानी गैस गीजर से निकालेंगे तो हमारा गैस जो है. वह ज्यादा दिन नहीं चलेगा .यदि हम इलेक्ट्रिक वाटर हीटर का इस्तेमाल करेंगे तो इसमें भी कुछ समस्या है. जैसे कि एक तो हमारे घर में लाइट जो है. वह हर समय नहीं रहती है. क्योंकि लाइट का भी समय होता है.

कि दिन में 2 घंटे या फिर 4 घंटे ही आती है. और दूसरी बात यदि हमारे घर में 24 घंटे लाइट रहती है. और ऐसे में यदि हम इलेक्ट्रिक वॉटर हिटर का इस्तेमाल करेंगे तो हमारे घर का बिजली बिल बहुत ज्यादा आएगा तो यह भी एक समस्या है. जिसके कारण हम इलेक्ट्रिक वाटर हीटर का इस्तेमाल भी ज्यादा नहीं कर पाएंगे.

ऐसे में आप यदि गर्म पानी के लिए कोई अच्छा और बिना खर्चे वाला उपकरण ढूंढ रहे हैं. तो आपके लिए सोलर वाटर हीटर सही रहेगा क्योंकि सोलर वाटर हीटर जो है. वह आप के पानी को लगभग 24 घंटे के आसपास गर्म रखता है. और इसमें किसी भी प्रकार की बिजली या फिर गैस की जरूरत नहीं होती है. इसे आपको अपने घर की छत पर या फिर किसी खुली ऐसी जगह पर लगाना होगा जहां से इसके ऊपर धूप गिर सके.

घर ऑफिस और दुकान पर सोलर पैनल लगाने का खर्चा

सोलर वॉटर हीटर क्या है?

सोलर वॉटर हिटर नॉर्मल वाटर हीटर के मुकाबले उल्टे तरीके से काम करता है. सोलर वाटर हीटर में पानी गर्म करने के लिए किसी भी लाइट या फिर गैस की जरूरत नहीं होती हैसोलर वॉटर हिटर सिस्टम एक ऐसी तरकीब है. जिसकी वजह से यह धूप से पानी गर्म करता है. इसलिए इसे घर की छत पर है. या फिर किसे खुले मैदान पर लगाया जाता है.

जिससे इसे सही धुप मिल सके और यह पानी को सही से गर्म कर सके इस सोलर वॉटर हिटर सिस्टम को किसी भी इंधन की जरुरत नहीं होती है. बस इसे दिन में 4 या फिर 5 घंटे धुप की जरुरत होती है. सोलर वाटर हीटर में एक इंसुलेटेड टैंक होता है. जिसके अंदर गर्म पानी स्टोर होता है. तो दिन के समय में जब धूप निकलती है.

तब यह वाटर हीटर पानी को गर्म करके उस टैंक के अंदर स्टोर कर देता है. और जब आपको जरूरत होती है. तब आप आउटलेट में से उस गर्म पानी को निकाल सकते हैं. और अपने काम में इस्तेमाल कर सकते हैं. और मान लीजिए आपने उस पानी का यूज़ नहीं किया है. तो यह सोलर वाटर हीटर करीब 20 से 22 घंटे तक उस पानी को गर्म रखेगा तो 20 से 22 घंटों के अंदर जब भी आपको गर्म पानी की जरूरत हो तब इसके अंदर से आप उस पानी को निकाल सकते हैं.

यह वाटर हीटर पानी को करीब 68° ±5° C टेंप्रेचर तक गर्म कर देता है. सर्दियों के समय में दिन में 4 से 5 घंटे के करीब धूप निकलती है. और इतनी धूप इस सोलर वॉटर हिटर सिस्टम के लिए काफी है. अब ऐसे में कई लोगों का यह सवाल होगा कि इस सोलर सिस्टम को पानी गरम करने के लिए धूप की जरूरत होती है.

तो यदि किसी दिन तू अपने निकले या फिर बरसात का मौसम हो तब हम पानी कैसे गर्म करेंगे या फिर तब यह कैसे काम करेगा तो इस सोलर वाटर हीटर सिस्टम के अंदर इलेक्ट्रिकल बैकअप हीटिंग की प्रोविजन रहती है. ताकि आप एक बैकअप हीटिंग एलिमेंट सिस्टम में लगा सकते हैं. जो एक Thermostat Driver होता है.

ताकि जिस दिन सूरज की रोशनी कम है. या फिर बरसात हो रही है. उस समय आप बिजली का इस्तेमाल करके सोलर वाटर हीटर सिस्टम के टैंक में जो पानी है. उसको गर्म कर सकें और उस गर्म पानी का आप इस्तेमाल कर सकें या फिर आप ऐसी जगह पर दूसरे वाटर हीटर का इस्तेमाल कर सकते हैं. जैसे कि गैस गीजर या फिर इलेक्ट्रिक वॉटर हिटर एक सोलर वॉटर हीटिंग सिस्टम सालाना 1600 यूनिट तक बिजली बचा सकता है।

Luminous सोलर पैनल की कीमत इन इंडिया

सोलर वाटर हीटर कितने प्रकार के होते हैं.

घरेलू और औद्योगिक उपयोग दोनों के लिए, सोलर वॉटर हीटर दो प्रकार के होते हैं. : –

1. FPC (Flat Plate Collector) System

FPC सिस्टम एक मेटल सिस्टम और यह एक सोलर पैनल की तरह ही काम करती है. जैसी को सोलर पैनल के अंदर पहले सोलर पैनल की बॉडी होती है. उसके बाद सोलर पैनल के सेल्स होते हैं. और उसके बाद उसके ऊपर शीशा लगा होता है. इसी तरह से यह है. FPC सिस्टम होता है. इसके अंदर एक इंसुलेटेड मैटालिक बॉक्स होता है.

जोकि ग्लास यानी शीशे से ढका हुआ होता है. और इस लोहे के बक्से में तांबे की चादर की एक परत होती है. जोकि गर्मी को absorb करती है. तांबे की चादर को एक काले रंग की Coating की जाती है. जिससे वह गर्मी को absorb करने का काम करती है. और लोहे के बक्से में तांबे की ट्यूब सीधी खड़ी होती है.

निचे दो तिरछे तांबे के पाइपों से जुड़ी होती है. जिन्हें हेडर कहा जाता है। ठंडा पानी नीचे की पाइप से कलेक्टर बॉक्स यानि की लोहे के बक्से में जाता है. और जो सीधी पाइप होती है. उसमें ऊपर की ओर जाता है. और यह पानी इन सीधी खड़ी हुई पाइपों में गर्म हो जाता है. और जैसे ही यह पानी गर्म होता है.

तो पानी हल्का हो जाता है. और ऊपर की तरफ चला जाता है. और फिर हेडर की सहायता से यह पानी टैंक में चला जाता है. जहां पर गर्म पानी इकट्ठा होता है. और उसके बाद यह पानी सुबह आप अपने काम में ले सकते हैं.

2. ETC ( Evacuated Tube Collector) System.

ETC System शीशे के बने होते हैं. इसमें सीधे ट्यूब लगी हुई होती है. जो Co-axial glass tube से बनी हुई होती है. दो coaxial ट्यूबों के बीच की हवा को एक Vacuum बनाने के लिए हटा दिया जाता है. जो insulation को सुधारता है।

इसके अलावा ज्यादा गर्मी को और absorption और insulation देने के लिए ट्यूब के भीतर के भाग पर कोट (Coat) किया जाता है. इन कांच के पाइपों के अंदर ठंडा पानी भरा हुआ होता है. और जब इनके ऊपर सूरज का प्रकाश पड़ता है. तब यह पानी को गर्म कर देते हैं.

सोलर वॉटर हीटर कितने भारी होते हैं?

Integral Collector Storage System 400 पाउंड से भी ज्यादा भारी होते हैं. अब यह आपके ऊपर निर्भर करता है. कि आपकी की छत इतने वजन को झेल सकती है. और यह सोलर वाटर हीटर सिस्टम लगवाने से पहले आपको यह भी देखना होगा कि आपके घर की छत पर कितनी धूप आती है.

मान लीजिए आपके घर की छत पर किसी भी बड़ी बिल्डिंग या फिर किसी पेड़ पौधे की छाया रहती है. और ऐसे में आप सोलर वॉटर हिटर सिस्टम लगवा देते हैं. तो वह सोलर वाटर हीटर सिस्टम सही से काम नहीं कर पाएगा क्योंकि उसके ऊपर छाया रहेगी तो इसलिए आपको पहले यह भी देखना होगा कि जहां पर आप वॉटर हिटर सिस्टम लगवा रहे है.

वहां पर कोई पेड़ पौधे या फिर किसी भी प्रकार की छाया तो नहीं है. और फिर आपके ऊपर यह बातें निर्भर करती है. कि आपको हर रोज कितनी गर्म पानी की जरूरत है. उस हिसाब से आप अपनी साइज का सोलर वॉटर हिटर सिस्टम लगवा सकते हैं. और दूसरी बात आपके बजट के ऊपर निर्भर करती है. कि आपका बजट कितना है.

सोलर वॉटर हीटर का चुनाव कैसे करें?

सोलर सिस्टम खरीदने से पहले आपको कुछ चीजों का ध्यान रखना होता है. जैसे कि आपके एरिया में धूप कितनी आती है. आपको हर दिन कितने पानी की जरूरत है. और आपका बजट कितना है. ऐसी चीजें आपको देखनी होगी.

सोलर वॉटर हिटर सिस्टम को गर्म पानी करने के लिए कम से कम 3 से 4 घंटे धूप की जरूरत होती है. अगर आप किसी ऐसी जगह पर रहती हैं. जहां पर कई के दिनों तक धूप नहीं निकलती है. या फिर 1 या फिर 2 घंटे ही धूप निकलती है. तो ऐसी जगह पर सोलर वॉटर हिटर सिस्टम को लगवाने का कोई फायदा नहीं है.

जैसा कि हमने बताएं यदि दिन में 3 से 4 घंटे तक धूप रहती है. तब आप सोलर वॉटर हिटर सिस्टम लगवा सकते हैं. इसके बाद आपको यह बात ध्यान रखनी होगी कि आपको कितने पानी की जरूरत है. उस हिसाब से इनका साइज जो है.

बड़ा और छोटा होता है. तो आप अपने पानी की जरूरत के हिसाब से बड़ा या फिर छोटा सोलर वाटर हीटर सिस्टम ले सकते हैं.इसके बाद आपको सोलर वॉटर हिटर सिस्टम लगवाने के लिए जगह देखनी होगी कि किस जगह पर आप यह सोलर वाटर हीटर सिस्टम लगवाना चाहते हैं.

मान लीजिए आप छत के ऊपर इस सोलर वाटर हीटर को लगवाना चाहते हैं. तो आपको यह देखना होगा कि जितना बड़ा वाटर हीटर आप लगवा रहे हैं. उतना भार आपके घर की छत उठा सकती है. या फिर नहीं और इन सब चीजों के बाद आपको देखना होगा अपना बजट की कितने पैसे में आप वाटर हीटर खरीदना चाहते हैं. तो इन सब चीजों को ध्यान में रखते हुए आपको जो है. अपने वाटर हीटर का चुनाव करना होगा.

सोलर वाटर हीटर Price सोलर वाटर हीटर के लाभ वाटर हीटर की कीमत सौर ऊर्जा से पानी गर्म करना सोलर वाटर हीटर के प्रकार सोलर हीटर गीजर वाटर हीटर solar water heater,solar water heater installation,water heater,solar water heating,diy solar water heater,solar hot water,fpc solar water heater,

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
अब बिना बैटरी के चलेगा Solar, 25 साल तक मुफ्त मिलेगी बिजली क्या है PM Surya Ghar स्कीम? 1 करोड़ घरों को मिलेगी फ्री बिजली सोलर पैनल बनाने वाली कंपनी के Share Price प्रधानमंत्री सूर्योदय योजना क्या है? जानें किसे मिलेगा इसका लाभ 6 किलोवाट सोलर पैनल से क्या-क्या चला सकते हैं