Solar Water Pump

सोलर वाटर पंप क्या है और यह कैसे काम करता है

सोलर वाटर पंप क्या है और यह कैसे काम करता है

What is Solar Water Pump and how does it work in Hindi – आज के समय में सोलर एनर्जी का बहुत ही ज्यादा इस्तेमाल किया जा रहा है क्योंकि आज के समय में हर घर में लाइट की बहुत ज्यादा जरूरत है और हर कोई अपने लाइट की पूर्ति को पूरा करने के लिए सोलर पैनल का इस्तेमाल कर रहे हैं सोलर पैनल ही एक ऐसी चीज है जो बिना खर्चे के आपके घर की बिजली की पूर्ति कर सकता है और आपको ग्रीन एनर्जी प्रदान करता है.

सूर्य की रोशनी को आज के समय में महाशक्ति माना जाता है और आज के समय में इस सूर्य की रोशनी को पकड़ने के लिए नई-नई तकनीकों का इस्तेमाल किया जा रहा है। आज आपको मार्किट में हर चीज सोलर से चलने वाली मिल जायेगी या फिर चार्जिंग वाली मिल जायेगी,

जैसे आपको पता होगा की बस, कार ये सभी चीजे इसी तरह से यदि हम एग्रीकल्चर में सोलर का जिक्र करें तो एग्रीकल्चर के एरिया में भी सोलर के आने से बहुत बदलाव आये है उनमें से एक है Solar Water Pump, Solar Water Pump सूखे के समय में भी सिंचाई में मदद करता है.

एग्रीकल्चर एरिया में सबसे में चीज सिंचाई होती है क्योंकि लाइट का कोई भरोसा नहीं होता है की कब आएगी और कब जायेगी तो आज इस बारें में लगभग सभी लोग जागरूक हो रहे है और बहुत ज्यादा संख्या में लोग सोलर की तरफ जा रहे है.

Solar Water Pump Technology एक किफायती और टिकाऊ Technology है Solar Water Pump का इस्तेमाल ज्यादातर खेतों में सबमर्सिबल टुबेल चलाने के लिए और फव्वारे, स्विमिंग पूल पंप, मोनो-ब्लॉक होम पंप आदि में किया जाता है।

How Solar Water Pump Works

किसी भी Water Pump का काम होता है पानी को एक जगह से दूसरी जगह तक पहुचाना इसी तरह से Solar Water Pump का भी काम यही होता है और क्योंकि यह Solar Water Pump है इसलिए इसको चलाने के लिए धुप की जरुरत होती है.

सोलर वाटर पंप का यूज़ ज्यादा बड़े लेवल पर खेतों में किया जाता है और वैसे आप इनका यूज़ फाउंटेन पंप, पूल पंप, तालाबों में सर्कुलेशन पंप, पशु के लिए, सिंचाई पंप, होम पंप, बागवानी फार्म आदि में भी कर सकते है

Types of Solar Water Pump

वैसे तो सोलर वाटर पंप कई प्रकार के हो सकते है क्योंकि लाइट के हिसाब से भी AC और DC इस तरह से और साइज और पावर कंजप्शन के हिसाब से भी लेकिन मुख्य रूप से सोलर वाटर में केवल दो ही प्रकार के होते हैं

1. Solar Submersible Pump

Solar Submersible Pump का भारत में सबसे ज्यादा इस्तेमाल होता है यह Submersible Pump जमीन के अंदर रह कर पानी को ऊपर भेजता है और इस Solar Submersible Pump का इस्तेमाल ज्यादा गहराई से पानी को निकालने के लिए किया जाता है जहाँ पर पानी की गहराई 40 फीट से ज्यादा हो वहां पार इस Submersible Pump का इस्तेमाल किया जाता है

2. Solar Surface Pump

Solar Surface Pump का इस्तेमाल पानी को जमीन या जमीन के स्तर से ऊपर उठाना हो या फिर इधर उधर भेजना हो उसके लिए किया जाता है तो जहाँ पर पानी की गहराई 30 फीट से ऊपर हो वहां पर Solar Surface Pump का इस्तेमाल किया जाता है

Components of Solar Water Pump

Solar Water Pump के तीन Component होते है जिनके बारें में हम अभी बात करेंगें

1. Solar Panel

सोलर पैनल के बारें में आपको पता होगा की सोलर पैनल क्या है और ये कैसे काम करते है तो दोस्तों में आपको बता दूँ की जब धुप निकलती है तो वह सोलर पैनल के ऊपर गिरती है जिसके कारण से सोलर पैनल बिजली बनाते है और फिर वह बिजली वायर्स की सहायता से मोटर तक पहुँचती है जिससे मोटर चलती है और वह पानी बगाती है तो यह काम होता है सोलर पैनल का

2. Motor pump

मोटर के बारें में तो सभी को पता है की Water Pump क्या होता है और कैसे काम करता है आज के समय में आपको सायद ही ऐसा कोई घर देखने को मिलेगा जहाँ Water Pump देखने को न मिले Water Pump का काम होता है पानी को एक तरफ से खिंच कर दूसरी तरफ भेजना

3. Controller

किसी भी उपकरण को कंट्रोल करना बहुत ही जरुरी है क्योंकि क्या पता कब कौनसा उपकरण ख़राब हो जाए या फिर कब हमें उपकरण को बंद करने की जरुरत पड़े तो ऐसे में Controller लगाना बहुत जरुरी होता है और यदि आपने अपने घर में सोलर सिस्टम लगवाया हुआ है तो आपको सोलर चार्ज कंट्रोलर के बारें में जरुर पता होगा अगर नहीं पता तो कोई बात नहीं आपको में बता देता हूँ.

Controller सोलर पैनल और Motor pump के बीच में लगता है और यह इसलिए लगाया जाता ताकि आपको जब भी Motor pump on या फिर off करने की जरूरत हो तब आप उसे Controller कर सके इसके आलावा यह Controller आपके सोलर पैनल से आने वाली कम ज्यादा बिजली को भी Control करता है ताकि आपका
वाटर पंप सिस्टम ठीक तरह से चलता रहे और बिजली कम ज्यादा होने की वजह से आपके वाटर पंप की मोटर ख़राब ना हो इसलिए समर्सिबल पंप के बीच में सोलर कंट्रोलर को लगाया जाता है यह एक प्रकार का इनवर्टर ही होता है

Benefits of solar water pump

1. Low maintenance

आप लोगों को पता होगा कि सोलर सिस्टम में किसी भी प्रकार की कोई मेंटेनेंस नहीं है बस आपको एक बार सोलर सिस्टम सही जगह पर इंस्टॉल करना है और उसके बाद आपको सिर्फ यह ध्यान रखना है कि उसके ऊपर धूल मिट्टी ने जमें.

किसी भी प्रकार की मेंटेनेंस की जरूरत नहीं होती है ठीक इसी तरह से सोलर वाटर पंप सिस्टम को भी किसी तरह की मेंटेनेंस की जरूरत नहीं होती है बस आप को ध्यान रखना हुआ,

कि सोलर पैनल के ऊपर किसी भी बिल्डिंग या फिर पेड़ पौधे की छाया ना आए और ना ही इसके ऊपर धूल मिट्टी जमें और कोई भी पशु पक्षी या फिर आदमी सोलर पैनल को हानि न पहुंचा सके.

यानी कि उसे तोड़ ना सके बस इस बात का आपको ध्यान रखना होगा बाकी सोलर पंप सिस्टम को किसी भी प्रकार की मेंटेनेंस की जरूरत नहीं है.

2. Durable

सोलर वाटर पंप एकदम टिकाऊ चीज है सोलर वाटर पंप में जो मेन चीज होती है वह होती है सोलर पैनल और वाटर पंप तो इन में मान लीजिए सोलर पैनल में कोई दिक्कत हो गई तो आप उस सोलर पैनल को भी चेंज कर सकते हैं और बाई चांस सोलर वाटर पंप में कोई दिक्कत हो गई.

तो आप उसे भी चेंज कर सकते हैं तो इसलिए यह एकदम टिकाऊ चीज है अगर आप इसे सही जगह पर इंस्टॉल करवा लेते हैं और अपने हिसाब से इसे ऑपरेट करके ठीक तरह से इसका यूज करते हैं तो यह सही तरह से काम करेगा और इसमें कोई भी दिक्कत नहीं होगी.

3. Noise-free

सोलर वाटर पंप सिस्टम में किसी भी तरह की कोई आवाज नहीं होती है आप लोगों ने देखा होगा कि जहां पर बड़े-बड़े ट्यूबल लगे होते हैं या फिर वाटर पंप लगे होते हैं वहां पर आपको आवाज सुनने को मिलेगी लेकिन सोलर वाटर पंप सिस्टम में किसी भी प्रकार की कोई आवाज नहीं आती है यह एकदम नॉइस फ्री होते हैं

4. High efficiency

सोलर वाटर पंप सिस्टम High efficiency के साथ आते हैं और यह अच्छी तरह से काम करते हैं आप लोगों ने अक्सर कई बार खेतों में देखा होगा जहां पर सबमर्सिबल ट्यूबवेल लगाए हुए हैं तो वहां पर जब तक लाइट की वोल्टेज सही रहती है.

तब तक वह सबमर्सिबल ट्यूबवेल पानी सही देता है और जब वोल्टेज कम हो जाती है तब वह सबमर्सिबल ट्यूबवेल पानी कम देने लगता है और कई बार तो वोल्टेज इतनी ज्यादा कम हो जाती है कि सबमर्सिबल ट्यूबवेल जो वाटर पंप होती है वह जल (ख़राब) भी जाती है.

लेकिन सोलर वाटर पंप सिस्टम ऐसा नहीं है सोलर वाटर पंप सिस्टम में सोलर पैनल लगे होते हैं जो कि सोलर वाटर पंप को जितनी लाइट चाहिए होती है उतनी बना कर देते रहते हैं और मान लीजिए धूप कम हो जाती है तो ऐसे में लाइट कम बनेगी,

लेकिन ऐसी स्थिति को कंट्रोल करने के लिए सोलर वाटर पंप और सोलर पैनल के बीच में कंट्रोलर लगा होता है जो कि इस चीज को कंट्रोल करता है की मोटर को कितनी लाइट चाहिए और सोलर पैनल से कितनी लाइट आ रही है.

और इस चीज को कंट्रोल कर के ही कंट्रोलर मोटर को चलाता है जिससे वाटर पंप के जलने जैसी और खराब होने जैसी समस्या निपट जाती है

5. Safe

सेफ्टी के मामले में सोलर सबमर्सिबल वाटर पंप सिस्टम एकदम सही है क्योंकि इसमें सभी डीसी चीजों का यूज़ होता है इसलिए इनसे जल्दी से करंट भी नहीं लगता है और इससे ज्यादा खतरा भी नहीं होता है और दूसरा इससे आपका ट्रांसमिशन लाइनों वगैरह का भी खर्चा बचाता है.

मान लीजिए दोस्तो आप सबमर्सिबल ट्यूबवेल लगवाने की सोच रहे हैं तो उसके लिए यदि आप सोलर सिस्टम ना लेकर ट्रांसमिशन लाइन लगाएंगे तो उसमें आपका ज्यादा खर्चा होगा और उसमें आपको बिल भी भरना होगा ,

इसकी बजाय यदि आप सोलर सबमर्सिबल वाटर पंप यूज करेंगे तो इसमें आपका एक तो बिजली बिल बचेगा और दूसरा आपका जो ट्रांसमिशन लाइनों का खर्चा होता है वह भी बचेगा और तीसरा यह एकदम सेफ होता है.

इसमें आपको करंट भी नहीं लगेगा क्योंकि यह सभी डीसी लाइट से चलता है इसलिए सेफ्टी के मामले में भी सोलर वाटर पंप सिस्टम सही है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
क्या है PM Surya Ghar स्कीम? 1 करोड़ घरों को मिलेगी फ्री बिजली सोलर पैनल बनाने वाली कंपनी के Share Price प्रधानमंत्री सूर्योदय योजना क्या है? जानें किसे मिलेगा इसका लाभ 6 किलोवाट सोलर पैनल से क्या-क्या चला सकते हैं 5 किलोवाट सोलर पैनल से क्या-क्या चला सकते हैं