Solar Panel

सोलर पैनल के बारे में 5 झूठ जो आपको नहीं पता

सोलर पैनल के बारे में 5 झूठ जो आपको नहीं पता

मार्केट में कोई भी प्रोडक्ट आता है जिससे कि काफी लोगों की जिंदगी में काफी सुधार आ सकता है तो उसके लिए हमेशा आपको कुछ ना कुछ अच्छा और कुछ ना कुछ बुरा सुनने को मिलता है. इसी प्रकार सोलर पैनल के बारे में भी आपको कुछ झूठ सुनने को मिलता है जिसके कारण आप सोलर पैनल नहीं लगवा पाते हैं.

लेकिन सोलर पैनल जैसा कोई भी अन्य तरीका नहीं है जिससे कि साफ-सुथरे रूप से बिजली बनाई जा सके. सोलर पैनल ही एकमात्र ऐसा फादर है जिससे कि आप कहीं पर भी बिजली बनाकर अपना काम चला सकते हैं.

1 किलोवाट सोलर पैनल से क्या क्या चला सकते हैं

सोलर पैनल के बारे में 5 झूठ जो आपको नहीं पता

तो जो लोग सोलर पैनल बेचते हैं वह इनके बारे में आपको सभी अच्छी अच्छी बातें बनाते हैं और जिसको सोलर पैनल के बारे में कुछ नहीं पता वह इसके बारे में झूठ फैलाते हैं. ऐसे ही कुछ झूठ के बारे में नीचे आपको बताया गया है जिसके बारे में आपको जानना बहुत ही जरूरी है.

झूठ 1: सोलर पैनल सर्दियों में काम नहीं करते

Fact 1: काफी लोग यह कहते हुए आपको मिल जाएंगे कि सोलर पैनल सिर्फ गर्मियों में काम करता है सर्दियों में यह काम नहीं करता. लेकिन ऐसा कुछ नहीं है सोलर पैनल सर्दियों में भी काम करते हैं और बारिश के दिनों में भी है काम करते हैं सिर्फ इनकी काम करने की क्षमता कम हो जाती है. क्योंकि सर्दियों में और बारिश के दिनों में धूप इतनी अच्छी नहीं मिल  पाती इसीलिए  सोलर पैनल की बिजली बनाने की क्षमता थोड़ी सी कम हो जाती है.

झूठ 2 : सोलर पैनल महंगे होते है

Fact 2: काफी लोगों को यह लगता है कि सोलर पैनल बहुत महंगी होते हैं लेकिन वह यह नहीं देखते कि सोलर पैनल लगाने का खर्चा सिर्फ एक बार आता है उसके बाद में या आप इसे 20 से 25 साल तक बड़े ही आराम से चला सकते हैं और सोलर पैनल लगाने में जितना खर्चा आता है वह 3 से 4 साल में ही पूरा हो जाता है उसके बाद में आपको सोलर पैनल से बिल्कुल फ्री में बिजली मिलती है. अगर आप सोलर पैनल अपने घर पर लगाना चाहते हैं तो उसके लिए सरकार भी काफी बार सब्सिडी दे देती है जिससे कि सोलर पैनल और भी काफी सस्ते मिल जाते हैं.

झूठ 3 : सोलर पैनल की देखभाल ज्यादा करनी पड़ती है

Fact 3:  सोलर पैनल और जरनैटर दोनों बिजली बढ़ा सकते हैं लेकिन सोलर पैनल में जरनैटर की तरह कोई भी हिलने वाला भाग नहीं होता इसीलिए इसमें आपको किसी भी प्रकार की बार-बार मेंटेनेंस की आवश्यकता नहीं पड़ेगी ना ही कोई आपको पुर्जा बदलना पड़ेगा सिर्फ आपको जब भी सोलर पैनल पर मिट्टी  आएगी तो उसे कपड़े या पानी से साफ करना पड़ेगा इसके अलावा  सोलर पैनल की कोई भी देखभाल करने की आवश्यकता नहीं पड़ेगी.

झूठ 4 : गर्म और ठंडी जगह के लिए अलग अलग सोलर पैनल चाहिए 

Fact 4 : काफी लोगों को इस बात का भरम रहता है कि ठंडे इलाकों में अलग प्रकार के सोलर पैनल लगाने पड़ते हैं और गर्म जगह में अलग प्रकार के सोलर पैनल लगाने पड़ते हैं. लेकिन ऐसा कुछ नहीं है मार्केट में आपको अलग-अलग तरह के सोलर पैनल देखने को जरूर मिलेंगे लेकिन उन्हें आप कहीं पर भी लगा सकते हैं वह हमेशा बिजली बनाने का काम ही करेंगे.

लेकिन सभी सोलर पैनल की क्षमता अलग-अलग होती है. इसीलिए आपको कुछ सोलर पैनल की पावर जनरेशन दूसरे सोलर पैनल से अधिक देखने को मिल सकती है. तो इसके लिए आपको अपने लिए एक ज्यादा से ज्यादा एफिशिएंसी वाले सोलर पैनल लेने की आवश्यकता है जिससे कि आप कम जगह में भी ज्यादा बिजली बना पाए.

झूठ 5 : सोलर पैनल से छत ख़राब हो जाती है

Fact 5: काफी लोगों को यह भी लगता है कि अगर हम वह सोलर पैनल लगाएंगे तो उनकी छत खराब हो जाएगी. लेकिन ऐसा भी नहीं है अगर आप सोलर पैनल ऐसी छत पर लगाना चाहते हैं जिस छत को आप बार-बार उपयोग करना चाहते हैं तो उसके लिए आपको ज्यादा हाइट वाले स्टैंड पर सोलर पैनल  को लगाना पड़ेगा जिससे कि सोलर पैनल के नीचे आपको आपकी छत का सारा स्पेस मिल जाएगा. और  स्टैंड लगाने के लिए आप छत पर  पिलर बनाकर भी उनके ऊपर सोलर पैनल के स्टैंड को लगा सकते हैं.

तो यह कुछ झूठ है जो कि लोगों द्वारा  सोलर पैनल के बारे में फैलाई जा रहे हैं लेकिन अब आपको पता लग गया कि आप सोलर पैनल का उपयोग करके एक साफ-सुथरी बिजली बड़ी ही आसानी से बना सकते हैं

सौर पैनल, जिसे फोटोवोल्टेक (पीवी) पैनल भी कहा जाता है, एक ऐसी उपकरण है जो फोटोवोल्टेक प्रभाव का उपयोग करके सूरज की किरणों को विद्युत में परिवर्तित करता है। यह सौर ऊर्जा प्रणाली का एक मुख्य घटक है और नवीनीकृत सौर ऊर्जा को उत्पन्न करने में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

सोलर एसी के फायदे और नुकसान क्या है

सौर पैनल कैसे काम करता है

Photovoltaic Effect: सौर पैनल एकाधिक सौर सेलों से बने होते हैं, जो आम तौर पर सिलिकॉन से बने होते हैं। जब सूर्य की किरणें इन सेलों पर पड़ती हैं, तो यह material के भीतर इलेक्ट्रॉन्स को excites करती हैं, जिससे इलेक्ट्रिक फ़ील्ड उत्पन्न होता है। इस प्रक्रिया को फोटोवोल्टेक प्रभाव कहा जाता है।

Electricity Generation:  सौर सेलों के भीतर का विद्युतीय फ़ील्ड excited  इलेक्ट्रॉन्स को एक विशेष दिशा में प्रवाहित करता है, जिससे direct current (डीसी) बनता है। सौर सेलों के बीच electrical connections  इस current को पैनल के किनारों तक पहुंचाता है।

Inverter Conversion: सौर पैनल से उत्पन्न डीसी विद्युत फिर इनवर्टर में आती है, जो इसे बदलकर विद्युत धारा (एसी) विद्युत में converts करता है। एसी विद्युत उस प्रकार की विद्युत है जो अधिकांश घरों और व्यापारों में उपयोग की जाती है।

Electrical Usage: सौर पैनल द्वारा उत्पन्न एसी विद्युत का उपयोग आपके घर या व्यापार में विद्युतीय उपकरणों और उपकरणों को चालू करने के लिए किया जा सकता है। किसी भी excess electricity को जो तुरंत उपभोग नहीं होता है, उसे आम तौर पर ग्रिड में वापस भेजा जाता है, ताकि दूसरे उपभोक्ताओं का उपयोग किया जा सके।

सौर पैनल के लाभ

सौर पैनल (सोलर पैनल) सौर ऊर्जा से बिजली उत्पादन करने के लिए एक प्रमुख तकनीकी उपकरण हैं। इन पैनलों का उपयोग विभिन्न जगहों पर बिजली के लाभों को उठाने में किया जाता है। निम्नलिखित हैं कुछ मुख्य लाभ जो सौर पैनल प्रदान करते हैं:

Clean and Pure Energy: सौर पैनल बिजली उत्पादन के लिए सूर्य के ऊर्जा का उपयोग करते हैं, जिससे कोई धुले नहीं उत्पन्न होते हैं। इससे वातावरण के प्रति कारणांतर्गत नुकसान कम होता है और वायु प्रदूषण का स्तर भी कम होता है।

Electricity Savings: सौर पैनल द्वारा उत्पन्न की गई ऊर्जा से आप बिजली की बचत कर सकते हैं। यह आपके बिजली बिल को काफी कम कर सकता है और आपको उच्च बिजली दरों से बचाता है।

Energy Independence: सौर पैनल आपको ऊर्जा स्वायत्तता प्रदान करते हैं। जब आप अपनी स्वयं की ऊर्जा उत्पादन करते हैं, तो आपको बाहरी बिजली सप्लाई की आवश्यकता कम होती है या फिर आप पूरी तरह से निर्भर नहीं होते।

Green Tax and Subsidies: कई सरकारें सौर पैनल के इस्तेमाल को प्रोत्साहित करने के लिए ग्रीन टैक्स और सब्सिडी प्रदान करती हैं। इससे लोगों को सौर पैनल इंस्टॉल करने में आसानी होती है और स्थानीय समुदायों के लिए अधिक उपलब्धि प्रदान की जा सकती है।

Technological Advancements: सौर पैनलों का उपयोग progressive और innovative तकनीक के रूप में भी देखा जा सकता है। इस तकनीकी उन्नतीकरण से ऊर्जा के उत्पादन में और भी प्रगति हो सकती है और इससे बिजली उत्पादन को अधिक अच्छी तरह से संभव बनाया जा सकता है।

इन सभी लाभों के साथ, सौर पैनल एक स्वच्छ, सामर्थ्यपूर्ण, और ऊर्जा स्वतंत्रता का स्रोत प्रदान करते हैं, जो वर्तमान और भविष्य की ऊर्जा की आवश्यकताओं को पूरा करने में मदद कर सकते हैं।

solar energy the myths the facts reading answers, solar myths, myths about the solar system, solar energy myths and facts, the truth about solar panels, facts on solar panels, solar truth, solar power for homes,

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
क्या है PM Surya Ghar स्कीम? 1 करोड़ घरों को मिलेगी फ्री बिजली सोलर पैनल बनाने वाली कंपनी के Share Price प्रधानमंत्री सूर्योदय योजना क्या है? जानें किसे मिलेगा इसका लाभ 6 किलोवाट सोलर पैनल से क्या-क्या चला सकते हैं 5 किलोवाट सोलर पैनल से क्या-क्या चला सकते हैं